January 24, 2020

Eduvanti Academy

Blogging Tutorials Is A Source Of Learning

DARNE LAGA HU MAI

आजकल तुम से बात करने में डरता हूं कि ! कहीं इन लम्हों को मैं खो ना दूं !!

डरता हूं कि वह प्यारी सी भोली सी सूरत ! कहीं मेरी आंखों से ओझल ना हो जाए !!

अक्सर अकेले में तुमसे बात करता हूं ! आजकल हमारी वह स्मृतियां जो मुझसे बंध चुकी है !!

हमारा हंसना हमारी बातें हमारा रूठना और हमारी वो मुलाकातें ! आजकल खुद में खुद से हंसता हूँ !! आजकल तुमसे बात करने से डरता हूँ !!!

वह बोझिल सा कभी दिल मेरा ! वो बेमतलब न था कभी दिल मेरा !!

तूने ही तो इसे ख्वाब दिखाया! तूने ही तो इसे जिंदा किया !!

आजकल तेरी यादों में अक्सर रोता अक्सर हस्ता हूँ ! आज कल तुमसे बात करने से डरता हूँ!!

DARNE LAGA HU MAI

सभी कविताओं को एक साथ पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें। धन्यवाद !

WordPress Freelancer

Kumar Madhukar Jha

Rate Me

Gedgets

Sumit Sindhu

Rate Me

Educational Thought/Poem

Vishal Singh

Rate Me

Political Views/Poem

Himanshu Anand

Rate Me

Today Posted